Iota प्राइस हिस्ट्री

Iota प्राइस हिस्ट्री

Share:

IOTA, इंटरनेट ऑफ थिंग्स के लिए निर्मित पहला वितरित बहीखाता है - एक ऐसा नेटवर्क जो मानव और मशीनों के बीच मूल्य और डेटा का आदान-प्रदान करता है। यह टेंगल नामक एक नई वितरित लेज़र तकनीक पर आधारित है, जो वर्तमान ब्लॉकचेन डिज़ाइनों की अक्षमताओं को दूर करती है और एक विकेंद्रीकृत पीयर-टू-पीयर सिस्टम में सहमति के स्तर तक पहुंचने का एक नया तरीका पेश करती है। इसका निर्माण और प्रदान बर्लिन में मुख्यालय वाले गैर-लाभकारी IOTA फाउंडेशन द्वारा किया गया है। IOTA फाउंडेशन का लक्ष्य एक विश्वास की दीवार बनाना है, जो उपकरणों को डेटा और मूल्यों को अपरिवर्तनीय और नि: शुल्क आदान-प्रदान करने में सक्षम बनाता है।

अत्यधिक विकासशील: IOTA एक DAG डेटा संरचना का उपयोग करता है जिससे लेनदेन को समानांतर में जोड़ा जा सकता है।

कम संसाधन की आवश्यकताएँ: कम-ऊर्जा वाले नेटवर्क में सामील होने के लिए, सेंसर जैसे उपकरणों के लिए डिज़ाइन किया गया है।

शून्य शुल्क लेनदेन: 1 सेन्ट भेजें, 1 सेन्ट प्राप्त करें। $1,000,000 भेजें, $1,000,000 प्राप्त करें।

तेज लेनदेन: IOTA में लेनदेन की पुष्टि मिनटों में की जाती है।

वैकल्पिक क्वांटम की मजबूती: Winternitz सिग्नेचर के साथ IOTA कंप्यूटिंग की अगली पीढ़ी के लिए सबसे आगे है।

वितरित: विश्व स्तर पर वितरित नेटवर्क, IOTA खतरों के सामने लचीला और मजबूत है।

पहली बार, लोग और मशीनें भरोसेमंद, बिना कोई अनुमति और विकेन्द्रीकृत वातावरण में बिना किसी लेन-देन शुल्क के राशि और / या डेटा स्थानांतरित कर सकते हैं। इसका मतलब यह है कि किसी भी प्रकार के विश्वसनीय मध्यस्थ की आवश्यकता के बिना भी नैनो-भुगतान संभव है। टोकन को 'इंटरनेट ऑफ थिंग्स' (IoT) की सेवा के लिए बनाया गया था: अरबों छोटे कंप्यूटिंग उपकरणों को तेजी से रोजमर्रा की वस्तुओं में जोड़ा जा रहा है, जिसकी वजह से उन्हें डेटा भेजने और प्राप्त करने के लिए सक्षम बनाया गया है। IOTA इन जुड़े हुवे मशीनों को स्वायत्त आर्थिक एजेंटों में बदल देता है, जिससे चीजों की पूरी तरह से नई अर्थव्यवस्था बन जाती है। यह अनुमान लगाया जाता है कि 2025 तक 75 बिलियन से अधिक उपकरण इंटरनेट ऑफ थिंग्स से जुड़ जाएंगे।

टोकन को जून 2017 में लॉन्च किया गया था, जिसकी कुल आपूर्ति लगभग 2.78 क्वाड्रिलियन IOTA ने शुरुआत से उपलब्ध कराई थी। अब कोई अतिरिक्त टोकन नहीं बनाया जाएगा। जब तक इसका उपयोग अधिक व्यापक नहीं हो जाता, तब तक 1 मेगा IOTA (MIOTA) वर्तमान में स्वीकृत मूल यूनिट है।